Ad Code

5. Augustan Age (The Age of Pope) in Hindi

Augustan Age | The Age of Pope (1700-1750)

Augustan Age in English Literature in Hindi
Augustan Age in English Literature 

Augustan Age को अंग्रेज़ी साहित्य में Neo-Classical Age या Age of Enlightenment भी बोलते हैं. इस युग की शुरुआत अट्ठारहवीं सदी की शुरुआत के साथ ही होती है. इस सदी के दौरान विज्ञान के क्षेत्र में काफ़ी तरक़्क़ी हुई थी, जिसकी वजह से साहित्य जगत को भी Isaac Newton, John Locke, Francis Bacon के विचारों ने काफ़ी प्रभावित किया था. लोग यह मानने लगे थे कि बस instrumental progress से ही मानव सभ्यता की सारी समस्याओं का निदान हो जायेगा, और इसलिये तर्कवाद (rationalism) पर ज़्यादा ध्यान दिया जाने लगा. इसी समय Encyclopedie लिखी गयी, जिसके सम्पादक एक फ़्रांसीसी दार्शनिक Denis Diderot थे. इसके बाद लोगों के सोंचने के तरीक़े में एक परिवर्तन आया, जिससे प्रबोधन (Enlightenment) का एक दौर शुरू हो गया. इसी दौर में औद्योगिक क्रान्ति (Industrial Revolution) भी शुरू हो चुकी थी. 

Augustan Writers

साहित्य में 1720 से 1730 AD के मध्य के लेखकों को हम Augustans बोलते हैं. इस समय George 1st, England के राजा हुआ करते थे. Augustan लेखक Roman King, Augustus की शासन अवधि के दौरान लिखे गये राजनीतिक साहित्य से प्रभावित थे, और इनकी रचनायें इसी दौर के राजनीतिक लेखन से प्रेरित थीं. इस समय लेखन के क्षेत्र में कुछ ख़ास मौलिक काम नहीं हुये. जैसा कि हम आगे देखेंगे कि साहित्य का यह दौर बस व्यंग्य (satire) तथा वैचारिक हमलों का ही रहा.

Poetry 

Alexander Pope

इस युग में Alexander Pope, जो कि एक prose तथा poetry writer थे, उन्होंने काफ़ी ख्याति अर्जित की थी. इनकी अधिकांशतः कवितायें Mock Epic style में हैं, जिसका उपयोग वे अपने प्रतिद्वंदियों पर वैचारिक हमले के लिये किया करते थे. Alexander Pope के कुछ महत्त्वपूर्ण कार्य हैं:

The Dunciad

Rape of the Lock

Essay on Criticism

Important Translation Works :

Iliad (1715-20)

Odyssey (1725-26)

(Alexander Pope अपने जीवनकाल में इन अनुवाद कार्यों में कुछ सुधार करना चाहते थे)

James Thomson

The Seasons

Edward Young

Night Thoughts

Prose 

Prose writing की शुरुआत essays से हुयी थी. Joseph Addison तथा Richard Steele इसे और आगे लेकर गये. इन्होंने एक journal शुरू किया था जिसका नाम था The Spectator. पत्रकारिता की शुरुआत Restoration Age में हो चुकी थी. Augustan Age में ही एक और पत्रकार Daniel Defoe हुये जो कि साथ ही एक जासूस, लेखक तथा व्यवसायी भी थे. ये business journalism तथा economic journalism के प्रणेता थे. यें क्राइम तथा राजनीतिक मुद्दों पर लिखा करते थे और अक्सर प्रशासन की नज़रों में रहते थे. Moll Flanders तथा Robinson Crusoe इनके कुछ महत्त्वपूर्ण उपन्यासों में से थे, जिनके बारे में हम उपन्यास के विकास की चर्चा करते हुये पढ़ेंगे. Prose writing के क्षेत्र में Joseph Addison तथा Richard Steele के अलावा Jonathan Swift, जो कि महत्त्वपूर्ण रूप से राजनीतिक व्यंग्य (political satire) और इसके द्वारा Irish जनता के आक्रोश को उजागर करने के लिये जाने जाते हैं. 

Joseph Addison & Richard Steele 

Jonathan Swift 

The Battle of the Books (1704)
A Tale of Tub (1704)
An Argument Against Abolishing Christianity (1712)
Gulliver’s Travels (1726)
A Modest Proposal (1729)

Drama 

John Vanbrugh (Restoration Age, Comedy of Manners continued in the Augustan Age)

William Congreve (Restoration Age, Comedy of Manners continued in the Augustan Age)

George Lillo (Moral Tragedy, Characters from the Middle Class)

Richard Steele (Moral Tragedy, Characters from the Middle Class)

Colley Cibber

John Rich 

इस दौरान theatre की सफलता के लिये किसी राजसी संरक्षण (royal patronage) की ज़रूरत नहीं थी, क्योंकि, अब एक आम आदमी इससे जुड़ा हुआ महसूस करता था. 

Pantomime Theatre 

इन theatres को पारिवारिक मनोविनोद के लिये बनाया गया था. इस दौरान low comedy या lowbrow humour काफ़ी चलन में रहा. इस समय नाटक तथा opera लोकप्रिय मनोविनोद का साधन रहे.

Opera

John Gay

The Beggar’s Opera

Licensing Act 1737

1737 AD में नाटकों द्वारा लोगों की अभिव्यक्ति तथा सरकार की निंदा को नियंत्रित करने तथा इस तरह से किसी भी प्रकार की क्रांति के बीजारोपण को रोकने के लिये Licensing Act लाया गया, जिसके बाद लोगों के मध्य पहुँचने से पहले नाटकों को सेंसर की प्रक्रिया से गुज़र कर जाना होता था. हालाँकि, लोगों ने इस एक्ट को ज़्यादा गम्भीरता से नहीं लिया और वे खुलकर अपनी सोंच तथा सरकारी समस्याओं की अभिव्यक्ति theatre के द्वारा करते थे. 

Shakespeare

Licensing Act 1737 के आने के बाद कुछ नाटककार जहाँ उपन्यास की तरफ़ झुके, वहीं उनमें से अधिकांश ने पुराने नाटकों का मंचन शुरू कर दिया. इसी दौरान उन्होंने Shakespeare के कार्यों को देखा और उनके महत्त्व को समझा, और इस तरह Shakespeare, एक Elizabethan Age के नाटककार होने के बावजूद, Augustan Age में काफ़ी लोकप्रिय हुये.

Novel

Licensing Act 1737  के आने के बाद नाटककारों ने उपन्यास लिखने शुरू किये. इस समय तक प्रिंटिंग प्रेस भी सस्ता हो चुका था, जिससे इन नाटककारों को अपने रोज़गार के लिये एक विकल्प ढूँढने में कुछ ख़ास परेशानी का सामना नहीं करना पड़ा. लोग अब उपन्यास को ख़रीद कर पढ़ सकते थे. इनमें से कुछ प्रमुख नाटककार थे, जिन्हें हम पारम्परिक उपन्यास (traditional novel) के प्रणेता भी बुला सकते हैं:

Samuel Richardson

Pamela; or, Virtue Rewarded (1740)
Clarissa; or, The History of a Young Lady 
The History of Sir Charles Grandison (1753)

Henry Fielding

Shamela
Joseph Andrews
Tom Jones

Tobias Smollet

इस युग में, Tobias Smollet नाम की एक लेखिका ने एक नये style में उपन्यास लेखन की शुरुआत की जिसे picaresque novel बोलते हैं. हालाँकि यह term “picaresque novel” 1810 AD में गढ़ा गया, इसकी शुरुआत Spain में Spanish Golden Age (1554) के समय हो चुकी थी. ऐसे गल्प (prose fiction) में अक्सर ‘हीरो’ के रूप में एक मुख्य किरदार होता है, जो आकर्षक व्यक्तित्व तथा साहसिक प्रवृत्ति का होता है, लेकिन समाज के निचले तबके से आता है. यह ‘हीरो’ एक भ्रष्ट समाज में अपनी तीक्ष्ण बुद्धि का इस्तेमाल करके जीवनयापन करता है. ऐसे उपन्यास यथार्थवादी शैली (realistic style) में लिखे जाते हैं जिनमें comedy तथा satire के तत्त्व होते हैं. Tobias Smollet के कुछ महत्त्वपूर्ण कार्य हैं:

The Adventures of Roderick Random (1748)
The Adventures of Peregrine Pickle (1751)
The Expedition of Humphry Clinker (1771)

Augustan Age 1750 AD तक ही रहा, क्योंकि, इस युग के दो सबसे प्रमुख रचनाकारों Alexander Pope तथा Jonathan Swift की क्रमशः 1744 तथा 1745 AD में मृत्यु हो गयी. इसके बाद Age of Sensibility (1750-1798) की शुरुआत हो गयी, जिसके बारे में हम अगले लेख में पढ़ेंगे. 

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

Close Menu